About

Sanghmarg. Powered by Blogger.

Follow by Email

Google+ Badge

Blog Archive

Followers

Share It on Facebook

Blog Archive

Wednesday, 19 June 2013

मुर्ख इतिहास तो यही कहता है कि जयपुर के राजा भारमल की बेटी का विवाह मुगल शासक अकबर के साथ हुआ था किंतु सच कुछ और ही है...!

वस्तुत: न तो जोधाबाई का विवाह अकबर के साथ कराया गया था और न ही विदाई के समय जोधाबाई को दिल्ली ही भेजा गया था. अब प्रश्न उठता है कि फिर जोधाबाई के नाम पर किस युवती से अकबर का विवाह रचाया गया था ?


अकबर का विवाह जोधाबाई के नाम पर दीवान वीरमल की बेटी पानबाई के साथ रचाया गया था. दीवान वीरमल का पिता खाजूखाँ अकबर की सेना का मुखिया था. किसी बड़ी ग़लती के कारण अकबर ने खाजूखाँ को जेल में डालकर खोड़ाबेड़ी पहना दी और फाँसी का हुक्म दिया. मौका पाकर खाजूखाँ खोड़ाबेड़ी तोड़ जेल से भाग गया और सपरिवार जयपुर आ पगड़ी धारणकर शाह बन गया. खाजूखाँ का बेटा वीरमल बड़ा ही तेज और होनहार था, सो दीवान बना लिया गया. यह भेद बहुत कम लोगों को ही ज्ञात था.! दीवान वीरमल का विवाह दीवालबाई के साथ हुआ था. पानबाई वीरमल और दीवालबाई की पुत्री थी. पानबाई और जोधाबाई हम उम्र व दिखने में दोनों एक जैसी थी. इस प्रकरण में मेड़ता के राव दूदा राजा मानसिंह के पूरे सहयोगी और परामर्शक रहे. राव दूदा के परामर्श से जोधाबाई को जोधपुर भेज दिया गया. इसके साथ हिम्मत सिंह और उसकी पत्नी मूलीबाई को जोधाबाई के धर्म के पिता-माता बनाकर भेजा गया, परन्तु भेद खुल जाने के डर से दूदा इन्हें मेड़ता ले गया, और वहाँ से ठिकानापति बनाकर कुड़की भेज दिया. जोधाबाई का नाम जगत कुंवर कर दिया गया और राव दूदा ने उससे अपने पुत्र का विवाह रचा दिया. इस प्रकार जयपुर के राजा भारमल की बेटी जोधाबाई उर्फ जगत कुंवर का विवाह तो मेड़ता के राव दूदा के बेटे रतन सिंह के साथ हुआ था. विवाह के एक वर्ष बाद जगत कुंवर ने एक बालिका को जन्म दिया. यही बालिका मीराबाई थी. इधर विवाह के बाद अकबर ने कई बार जोधाबाई (पानबाई) को कहा कि वह मानसिंह को शीघ्र दिल्ली बुला ले. पहले तो पानबाई सुनी अनसुनी करती रही परन्तु जब अकबर बहुत परेशान करने लगा तो पानबाई ने मानसिंह के पास समाचार भेजा कि वें शीघ्र दिल्ली चले आये नहीं तो वह सारा भेद खोल देगी. ऐसी स्थिति में मानसिंह क्या करते, उन्हें न चाहते हुए भी मजबूर होकर दिल्ली जाना पड़ा. अकबर व पानबाई उर्फ जोधाबाई दम्पति की संतान सलीम हुए, जिसे इतिहास जहाँगीर के नाम से जनता है !

29 comments:

  1. par hum ispar bhi vishwas kaise karein ? koi proof?

    ReplyDelete
    Replies
    1. jaise aapne pichhli khaani par vishwaas kar liya tha usi prakar.

      Delete
    2. jodha akbar ki kahani ka to proof apane paas hai kya

      Delete
    3. मदर टेरेसा की असलियत आई सामने |
      मदर टेरेसा की संतई सवालों के घेरे में है और 'मिशनरीज ऑफ चैरिटी' की संस्थापक रोमन कैथोलिक 'संत' की 'संत' पदवी रहेगी या जाएगी, इसको लेकर दुनिया में बहस छिड़ गई है।
      aaj vartmaan ka itihaas bhi sawalo ke ghere me hai hamari aankho ke saamne ka itihaas to jodha akabar ki baat jo yugo purani hai use sahi kyo maane haa hindu virodhi log sahi maan sakte hai

      Delete
  2. I never read this,
    what is source of this story?

    ReplyDelete
    Replies
    1. The source you follow is Valid how can you porve?

      Delete
    2. DO ANY ONE HAVE PROOF THAT JODHA-AKBAR WERE MARRIED???? IF YES THEN WHATS THE PROOF

      Delete
    3. what is source of the akabar jodha story

      Delete
    4. मुस्लिमो की प्रशंशा और हिंदुवो की तोहीन जब जवाहर लाल नेहरू ये कह के कर सकते है की प्रथ्वी राज चौहान ने जेल में अपने प्राण त्याग दिए प्रथ्वी के हाथो गौरी को मारे जाने वाले इतिहास को झूठा बता सकते है तो जोधा अकबर का इतिहाश क्यों नहीं बनाया जा सकता
      आजाद भारत में इतिहाश वाही पढाया गया बनाया गया जो कांग्रेस को पसंद आया
      १९८४ में राजस्थान में 11th के सलेबर्स में नई इंग्लिश बुक में एक महात्मा गांधी विरोधी चेप्टर था जिसे तुरंत बंद करवा दिया गया हलाकि हमारे गुरु ने उस चेप्टर से ही शुरुवात की और कहा भी था की ये चेप्टर रहने वाला नहीं है इसलिए में आप को आप के ज्ञान के लिए पहले ही पढ़ा देता हु
      और इस भारत में जो प्रूफ की बात करने वाले है उनसे पूछा जाए की महात्मा गांधी के रास्ट्रपिता होने का क्या प्रूफ है और यदि प्रूफ नहीं है तो उन्हें आप रास्ट्रपिता मानते क्यों है

      Delete
  3. इतनी फालतू बातें कैसे लिख पते हो ! तुम भी लेखक बन जाओ ..और लोगों को बर्गालाओ !

    ReplyDelete
    Replies
    1. jo janam se hi barglaaye huve ho unhe aur kya barglaaye

      Delete
  4. hamara durbhaagya hai ki hum apni shrethta bhool chuke hain. bahut dukh hota hai jab koi Hindu 'source' maangta hai. Jo baatein humae padhaai jati hain vo unn logon dwara padhaai jati hain jo kabhi nahin chaahte ki hum apne aapko pahchaane. Unse source maango. aur usse bhee jyada khud library mein jao aur rashtrawaadi lekhakon dwara likhi gai pustakon ko padho aur nishpaksh hoka apni buddhi ka prayog karo. Sab khel saaf saaf samajh mein aa jaega. Poori duniya hinduon ko unki jad se kaatne mein lagi hai aur kuchh hindu bhee jaanboojhkar, lalach vash ya agyan vash vahi kar rahe hain.

    ReplyDelete
  5. main aapka support karta hu,,,, ye sab jo proof mang rhe hai,,, to ye ies bat ko kaise man rhe hai ki jodha akbar pati patni the,,,,hai to demag ke pagal

    ReplyDelete
  6. DO ANY ONE HAVE PROOF THAT JODHA-AKBAR WERE MARRIED

    ReplyDelete
  7. good source of information .. Hindus should learn to believe and hav unity.

    ReplyDelete
  8. THOSE WHO WANT PROOF DO YOU HAVE ANY PROOF OF YOUR ANCESTORS ,YOU ARE TOLD BY YOUR PARENTS ABOUT YOUR FORE FATHER YOU HAVEN' T ANY PROOF DESPITE YOU BELIEVE .

    ReplyDelete
  9. अकबरनामा, जहाँगीरनामा और उस समय के कई प्रचलित इतिहास पुस्तकों में कहीं भी नहीं लिखा कि जोधा बाई अकबर की पत्नी थी|
    NCERT की इतिहास पुस्तक जो स्कूलों में पढाई जाती है में भी जोधा को अकबर की पत्नी नहीं लिखा| यह सब फिल्म मुगले आजम व अनारकली की देन है, इन फिल्मों के बाद लोगों ने नई किताबों में भी जोधा को अकबर की पत्नी बताया जो सरासर गलत है झूंठ का पुलिंदा है|
    मैं बीसियों प्रचीन पुस्तकों के पृष्ठ संख्या तक बता सकता हूँ जिनमें जोधा को अकबर की पत्नी नहीं बताया गया !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. रतन जी !

      आप ने जो लिखा वो सही हो सकता है, लेकिन इसका कोई सबूत नही है, क्यों की इतिहास को मुगलों ने बहुत तोड़ मोड़ के लिखवाया है, जिसकी वजह से लोगो को सच्चाई का पता नही चल पाया। मेरा ये मानना है कि भारतीय इतिहास को मुगलों ने बर्बाद कर के रख दिया।

      कुछ देश द्रोही अभी भी है जो नही चाहते की भारत का गौरवमयी इतिहास सामने आये। इसलिए वो ही सबूत की बात करते है।

      जय हिन्द !!!

      Delete
  10. I want to ask all of you ?


    Who cares man if Shreemati Jodha was married to Akbar or not

    At least i don't care!

    ReplyDelete
  11. So do i.. i dont care..

    I agree with the fact that if someone do not respect his history then he can not presevre his future.

    But even after buying above argument.. what does that prove?? For me Panbai was wife of Akbar.. so??

    In Shishu Mandir, Class IV, in the book named(ITIHAS GA RAHA HI) it was written that Puru has defeted Sikandar.. Was that true???

    None of us born at that time and history is written by winners not losers..

    If we hidus were losers then we dont have the right to say nything. Talk about future not past lets try to win and work hard for that. Praising the history or blaiming others is not going to serve any purpose.

    In all the Ramayana, never ever Ravan was being targetted despite he was in the losing side. So what does that mean, all the efforts of winning side(Rama) were not able to demean Ravan. So Ravana must be great??

    Wats say???

    ReplyDelete
  12. Please enlighten on the fact that rajiv gandhi and sanjay gandhi, dont have same father...

    ReplyDelete
  13. proof- http://en.wikipedia.org/wiki/Mariam_uz-Zamani

    ReplyDelete
  14. Satyanas Likha hai...

    Mira bai ke Dada Rav Duda ka Dehant 1515 me..
    Mira ka Janam 1502 me...
    Mira ki Mata ka Dehant 1505 me...
    Mira ke pita Rao Ratan Singh Ne khanwa yudh me 1527 me Veergati payi....
    ye sab Log BaBaR ke samkaLin the...

    Akbar ka janam 1542 me huwa...

    bina siche samjhe kuch bhi Likh dete ho

    ReplyDelete
  15. अगर आपने इसे डिलीट नहीं किया और बिना सबुत इसे जारी रखा तो आपके खिलाफ कारवाही की जायेगी आपकी जानकारी के लिए बता दू मने एक साल रल रिसर्च किया है उसके बाद ये निष्कर्ष सामने आया की नो जोधा इन अकबर लाइफ मेरा न9610555900

    ReplyDelete
  16. शुक्ला जी जो आपने विकिपीडिया का लिंक दिया हे दिमाग नहीं ह्हे क्या इसमें कोई भी एडिट कर सकता हे में आपको मुसलमान सिद्ध कर सकता हु विकिपीडिआका कोय भी लिकं वधानिक नहीं मान सकते हे मेंआपसे कुछ निवेदन कर रहा हु आपने अकबर नामा पड़ा आपने नानसी की ख्यात पदी आपने जुदुनाथ सरकार की बुकपड़ी और छोडियेNcrtकी बुक पड़ी अगर नहीं पड़ी तो पहले जाकर पदों फिर लिखने की कोशिश करना और सबसे बड़ी बात जिस दिन इस देस से राजपूत ख़तम उस दिन तीन घंटे में सबके सब मुसलमान बना दिए जावोगे मेरी बात याद रखना

    ReplyDelete
  17. hum padte or sunte wahi hai jo hume kangrasiyo ne sikhaya hai... unhone hamare itihaas ko apne tareeke se likh diya hai... nehru ko baccho ka chacha bana daala or uske janamdin ke din childrens day mana daala. lakin jab bade hue or us Nehru ki kartooro ka pata chalo to sharam aayi apne aap par ki yeh humne aaj tak kya seekha hai..

    hey mere desh ke logo apni aankhe kholo apne dharam, sanskriti par garv karna seekho, apne andar ki heen bhawna ko hatao or apne hindu hone pe garv karo . Jai Hind

    ReplyDelete